Tuesday, May 24

कैसे करें अपने दिन की शुरुवात बेहतर…

कैसे करें अपने दिन की शुरुवात बेहतर...
Spread the love

हर कोई यह चाहता है कि उसके दिन की शुरुआत बेहद शानदार हो और उसका दिन अच्‍छा बीते व उसने दिन के लिए जो योजना अपने दिमाग में बना रखी है, वह पूरी हो। शास्‍त्रों में दिन की शुरुआत के कुछ खास तरीकों के बारे में बताया गया है। इनमें से एक है प्रात: वंदन। सुबह उठकर बिस्‍तर छोड़ने से पहले यदि हम कुछ मंत्रों का जप करें तो हमारा दिन भी सफल होता है और मां लक्ष्‍मी भी हम पर मेहरबान होती हैं।

पहला मंत्र

गीता में बताया गया है कि मनुष्‍य को सबसे पहले सुबह बिस्‍तर छोड़ने से भी पहले अपने हाथों के दर्शन करने चाहिए। साथ ही इस मंत्र का जप करना चाहिए।

कराग्रे वसति लक्ष्मीः, कर मध्ये सरस्वती।

करमूले तू ब्रह्मा, प्रभाते कर दर्शनम्।

इस मंत्र का अर्थ है कि हथेलियों के आगे के भाग में मां लक्ष्‍मी, मध्‍य भाग में मां सरस्‍वती और मूल में भगवान परमब्रह्म का निवास है। हे प्रभु सुबह के समय मैं इनके दर्शन करके आपको प्रणाम करता है। मेरा प्रणाम स्‍वीकार करें।

दूसरा मंत्र

सुबह बिस्‍तर छोड़ने से पहले धरती माता को स्‍पर्श करते हुए इस मंत्र का जप करें।

सर्वाबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वित:

मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यतिं न संशय:

इसका अर्थ है : हे मां मैं तुम्‍हें प्रणाम करता हूं। मनुष्‍य को तुम्‍हारा प्रसाद मिलने से सब समस्‍याओं से मुक्ति मिलती है। साथ ही हमें धन, धान्‍य और पुत्र की प्राप्ति होती है।

इन मंत्रों के जप से प्रसन्‍न होती हैं मां लक्ष्‍मी माना जाता है कि सुबह के वक्‍त इन मंत्रों के जप से आप दिन की शुरुआत करते हैं तो सभी बुरे कर्मों से दूर रहते हैं और ईश्‍वर की भक्ति में मन लगता है। ऐसे लोगों के हाथ में यश रहता है और वे जो भी कार्य करते हैं उसमें उन्‍हें सफलता प्राप्‍त होती है। मां लक्ष्‍मी उन पर मेहरबान होती हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.